सामान्य निर्देश

अंतर्राष्ट्रीय हिंदी एवं सामाजिक विज्ञान शोध पत्रिका में प्रकाशित शोध आलेखों में व्यक्त विचार, आशय, तथ्य आदि स्वयं लेखक के द्वारा लिखित अथवा संकलित हैं. उससे संपादकीय सहमति अनिवार्य नहीं है. शोध आलेखों की समीक्षा में शोध आलेख लेखन में अपनाई गयी शोध प्रक्रिया, दिए गए तथ्यों/सत्यता, सन्दर्भ आदि के विषय में मान्य समीक्षकों के द्वारा परीक्षण का प्रयास होता है. किन्तु साधनों की सीमा के कारण त्रुटियाँ संभावित हैं. गलत तथ्यों के प्रस्तुतीकरण की समस्त जिम्मेदारी लेखकों की है.


अंतर्राष्ट्रीय हिंदी एवं सामाजिक विज्ञान शोध पत्रिका अंतरराष्ट्रीय त्रेमासिक पत्रिका है जिसमे हिंदी एवं सामाजिक विज्ञान विषय एवं विषयों से सम्बंधित सभी उपविषयों के मौलिक शोध-पत्र, शोध समीक्षा, विचार, लेखों आदि का प्रकाशन किया जाता है। शोधकर्ता हिंदी भाषा में अपने शोध पत्र भेज सकते हैं।


शोध पत्र भेजते समय कृपया निम्न बिन्दुओं पर ध्यान दें -

  • शोध-पत्र अधिकतम 4000 -5000 शब्दों तक में हों तथा 150 शब्दों का सारांश भी प्रेषित करें।
  • सन्दर्भ ग्रन्थ सूची का उल्लेख अवश्य करें। सन्दर्भ ग्रन्थ सूची में लेखक का उपनाम, मुख्य नाम, पुस्तक का नाम, प्रकाशन का वर्ष एवं पृष्ठ संख्या अंकित होना चाहिए। पत्रिका के सन्दर्भ में लेख का शीर्षक, पत्रिका का नाम, अंक, पृष्ठ क्रम एवं प्रकाशन वर्ष दें।
  • शोध-पत्र A -4 साइज़ के कागज पर कंप्यूटर से एक तरफ मुद्रित हो।
  • शोध-पत्र Microsoft Office Word में हिंदी में Krutidev 10 के Font Size 14 में टाइप करवाकर भेजें।
  • शोध पत्रों की स्वीकृति एवं अस्वीकृति का अंतिम निर्णय सम्बंधित विषय के विशेषज्ञो कि अनुशन्सा ( Expert comments of Referees) से संपादक मण्डल द्वारा लिया जाता है। इस संबन्ध में अन्तिम अधिकार संपादक को प्राप्त है जो सभी सदस्यो को मान्य होगा। शोध पत्र प्रथम दृष्ट्या स्वीकृत हो जाने पर लेखक को समीक्षा शुल्क 1500/- प्रेषित करना होगा।
  • शोध पत्र के प्रकाशन हेतु संपादक के नाम पत्र होना चाहिए, जिसमें स्पष्ट रूप से शोध पत्र के सम्बन्ध में " मौलिक एवं अप्रकाशित " शब्द लिखा होना चाहिए और इसे अन्यत्र न भेजे जाने की पुष्टि हो । इस सम्बन्ध में वेबसाइट पर उपलब्ध certification of originality डाउनलोड करें एवं उसे आलेख के साथ प्रेषित करें.
  • शोध पत्र ई-मेल द्वारा निम्न ई-मेल पते पर भेजा जा सकता है:
  • ई-मेल पता- [email protected]

    शोध पत्र लिखते समय कृपया ध्यान दें :- (शोध पत्र में होने वाली सामान्य त्रुटियाँ)

    • आलेख में नई एवं मौलिक उदभावनाओं/अवधारणा के प्रतिपादन का अभाव एवं पूर्व स्थापित अवधारणा/मान्यता, स्थापना आदि का पिष्टपेषण।
    • शोध आलेख का तार्किक एवं श्रन्खलाबध न होना और शब्दजाल की अनावश्यक उपस्थिति।
    • सन्दर्भ साहित्य का अपर्याप्त अध्ययन।
    • त्रुटिपूर्ण तथ्यों एवं आंकड़ो का उल्लेख।
    • पाठ में उल्लिखित सन्दर्भ का लेख के अंत में दी गयी सन्दर्भ सूची में न लिखा जाना।
    • सन्दर्भ में पुस्तक के संस्करण का न लिखा जाना।
    • पाठ में व्याकरdणक् त्रुटियों का होना।
    • वाक्य में काल का असंगत होना।
    • लेखक के द्वारा आलेख शुद्ध करते समय शब्द /पद /वाक्य का लोप हो जाना।
    • लेख का अपेक्षाकृत बड़ा हो जाना।
    • विषय प्रतिपादन में विषय का अस्पष्ट होना।
    • तथ्यों, भावों या विचारों की पुनरावृत्ति।

    आपके वर्षों का अथक परिश्रम एवं प्रतिभाशाली प्रदर्शन निरर्थक है यदि वह अल्मारिओं के कोने में धूल खाता रहे. आप अपने शोध परियाजना के निष्कर्षों का प्रकाशन अनिवार्यरूप से करें. परियोजना प्रतिवेदन में निम्न बिंदुओं को सम्मिलित करें-

    • आपका शोध कार्य ज्ञान के आयाम में क्या नया जोड़ता है?
    • शोध की दृष्टि से आपके कार्य की महत्ता?
    • शोध कार्य में आने वाली कठिनाइयाँ / सीमाएं
    • आपका शोध कार्य में क्या शेष हैं जो नए अनुसन्धान का विषय बन सकता है?