अंतर्राष्ट्रीय शोध पत्रिका

संवैधानिक रूप से हिन्दी भारत की राजभाषा और भारत की सबसे अधिक बोली और समझी जानेवाली भाषा है। परंतु आज फीजी, मॉरीशस, गयाना, सूरीनाम, यूरोप, अमेरिका, नेपाल आदि देशों में हो रही हिंदी-सेवा से वैश्विक परिदृश्य में हिंदी का एक नया व प्रबल चित्र उभर रहा है। गुण और परिमाण में समृद्ध, यह समर्थ और वैज्ञानिक लिपि वाली भाषा देश-विदेश में आधुनिक चुनौतियों को लांघते हुए विश्वव्यापी बन रही है।


अंतर्राष्ट्रीय हिंदी एवं सामाजिक विज्ञान शोध पत्रिका ISSN:2348-2605 त्रेमासिक पत्रिका है. पत्रिका का मुख्य उद्देश्य हिंदी एवं सामाजिक विज्ञान के प्रत्येक क्षेत्र में विमर्श के दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण विषयों को पाठकों के समक्ष रखना है.


अंतर्राष्ट्रीय हिंदी एवं सामाजिक विज्ञान शोध पत्रिका में प्रकाशित शोध आलेखों में व्यक्त विचार, आशय, तथ्य आदि स्वयं लेखक के द्वारा लिखित अथवा संकलित हैं. उससे संपादकीय सहमति अनिवार्य नहीं है. शोध आलेखों की समीक्षा में शोध आलेख लेखन में अपनाई गयी शोध प्रक्रिया, दिए गए तथ्यों/सत्यता, सन्दर्भ आदि के विषय में मान्य समीक्षकों के द्वारा परीक्षण का प्रयास होता है. किन्तु साधनों की सीमा के कारण त्रुटियाँ संभावित हैं. गलत तथ्यों के प्रस्तुतीकरण की समस्त जिम्मेदारी लेखकों की है.


प्रकाशन किसी भी शोध प्रक्रिया का अंतिम एवं अनिवार्य चरण है. शोध निरर्थक है यदि वह लोगों के संज्ञान में नहीं है. यह एक श्रृंखला क्रिया की तरह है. प्रत्येक अनुसन्धान में कुछ ऐसे अवकाश होते हैं जो एक अन्य स्वतंत्र अनुसन्धान की मांग करते हैं अथवा उसमें ऐसे विचार दृष्टि होते है जो अन्य शोधशोधों को प्रेरित करतें हैं. अतएव व्यापक सामाजिक हित में शोध का प्रकाशन अनिवार्य है.


अंतर्राष्ट्रीय हिंदी एवं सामाजिक विज्ञान शोध पत्रिका त्रेमासिक पत्रिका है जिसमे हिंदी एवं सामाजिक विज्ञान विषय एवं विषयों से सम्बंधित सभी उपविषयों के मौलिक शोध-पत्र, शोध समीक्षा, विचार, लेखों आदि का प्रकाशन किया जाता है। शोधकर्ता हिंदी भाषा में अपने शोध पत्र भेज सकते हैं।


शोध आलेख निम्नलिखित बिन्दुओं के अनुसार लिखित हो

  • शोधपत्र का शीर्षक।
  • लेखक/लेखकों का नाम उनके ईमेल संकेत के साथ (लेखक/लेखकों का परिचय उनके नाम/नामों में सिम्बल लगाकर, नीचे फुटनोट् में प्रस्तुत किया जाना चाहिए)।
  • सार-संक्षेप।
  • की-वर्ड्स (शोधपत्र के अत्यन्त महत्त्वपूर्ण शब्द जो आन-लाइन-सर्च में सहायक हों)।
  • शोधपत्र (हेडिंग्-सहित या हेडिंग्-रहित)।
  • उपसंहार / निष्कर्ष
  • सन्दर्भ-ग्रन्थ-सूची


शोध या अनुसन्धान का उद्देश्य

  • सत्य की खोज करना। छिपे हुए सत्य का पता लगाना।
  • नवीन तथ्यों की खोज करना या नवीन ज्ञान की प्राप्ति करना।
  • किसी घटना के बारे में नई जानकारी प्राप्त करना,
  • किसी विशेष स्थिति का सही वर्णन प्रस्तुत करना।
  • समस्याओं का निदान या समाधान करना।
  • वैज्ञानिक कार्यविधि के उपयोग द्वारा प्रश्नों के उत्तर प्राप्त करना।
  • विज्ञान पर आधारित वस्तुपरक ज्ञान प्राप्त करना।
  • किन्ही चरों के बीच कार्य-कारण संबंध को समझना और परीक्षण करना।
  • किसी घटना के साथ सह-संबंध की जानकारी प्राप्त करना।
  • व्यवस्थित प्रयत्न द्वारा सिद्धांतों का निर्माण करना।

शोध आलेखों की गुणवत्ता को ध्यान में रखते हुए विषय विशेषज्ञों द्वारा शोध आलेख का चयन किया जाता है. पत्रिका समाज एवं सृजनकर्मियों के मध्य एक वैचारिक वातावरण तैयार करना चाहती है, जो आप सभी के सहयोग से ही संभव है अतः पत्रिका में प्रकाशित सामग्रियों पर आपके विचार सदैव आमंत्रित हैं.


ई-मेल पता- [email protected]